बादल

वायुमंडल में स्वतंत्र रूप से जलकणों या हिमकणों के समूह जिनका निर्माण वायुमंडल में अंतर्निहित जलवाष्प के संघनन के फलस्वरूप होता है, बादल कहलाते है. यह प्रायः समूह में निर्मित…

Continue Readingबादल

Plate Tectonics Theory

प्लेट विवर्तनिकी सिद्धांत सन 1987 में मेकेंजी, मार्गन व पारकर ने स्वतंत्र रूप से उपलब्ध विचारों को संबवित कर प्लेट विवर्तनिकी सिद्धांत प्रस्तुत किया| एक विवर्तनिक प्लेट अथवा लिथोस्फेरिक प्लेट…

Continue ReadingPlate Tectonics Theory

शैल

शैल तंत्र शैल का निर्माण एक या एक से अधिक खनिजों से मिलकर होता है, और इन्ही खनिजों के आधार पर शैलों में भिन्नताएं पायी जाती है| शैल अपनी संरचना…

Continue Readingशैल

तारों का निर्माण

प्रारंभिक ब्रह्माण्ड में ऊर्जा व पदार्थो का वितरण असमान था  और इसी भिन्नता व  गुरूत्वाकर्षण बल के कारण पदार्थो का एकत्रण होने लगा,  आकाशगंगा के निर्माण को आधार मिला| आकाशगंगा …

Continue Readingतारों का निर्माण

वायुमंडल की उत्पत्ति और विकास

वायुमंडल के विकास की तीन अवस्थाएं हैं – 1 ).  आदिकालीन वायुमंडलीय गैसों का ह्रास – प्रारम्भिक वायुमंडल जिसमे हाईड्रोजन (H2) व हीलियम (H) की अधिकता थी वह सूर्य के…

Continue Readingवायुमंडल की उत्पत्ति और विकास

महाद्वीपीय विस्थापन का सिद्धांत

महाद्वीपीय विस्थापन सिद्धांत अल्फ्रेड वैगनर ने 1912 में प्रस्तावित किया। यह सिद्धांत पृथ्वी विभिन्न के महाद्वीपों के एक-दूसरे के सापेक्ष गति से संबंधित है। बैगनर ने अपने सिद्धांत को निम्न…

Continue Readingमहाद्वीपीय विस्थापन का सिद्धांत

Monsoon

मानसूनमानसून मूलतः बंगाल की खाड़ी, अरब सागर एवं हिन्द महासागर की ओर से भारत के दक्षिण-पश्चिमी तट पर आने वाली हवाओं को कहते हैं, जो दक्षिणी एशिया मुख्यतः भारत, पाकिस्तान,…

Continue ReadingMonsoon

सागर नितल प्रसरण सिद्धांत

इस सिद्धांत का प्रतिपादन 1961 – 62 में हेरी हेन्स ने किया था| हेरी हेन्स ने अपने विश्लेषण में पाया की मध्य महासागरीय कतकों के साथ-साथ ज्वालामुखी उद्गार क्रिया सामान्य…

Continue Readingसागर नितल प्रसरण सिद्धांत

ग्रहों का विकास

तारे निहारिका  अंदर गैस के गुथित झुण्ड हैं| इन गुथित झुंडो में गुरुत्वाकर्षण से गैसीय बादलों के भीतर कोर का निर्माण हुआ और इस गैसीय  बादल के भीतर चतुर्दिक गैस…

Continue Readingग्रहों का विकास

Development of lithosphere

Development of lithosphere (स्थलमंडल का विकास) प्रारम्भिक अवस्था में पृथ्वी अत्यंत तप्त तथा अस्थिर अवस्था में थी| परतु धीरे -धीरे पृथ्वी के ठंडे होने के क्रम में उसका सकुचन होता…

Continue ReadingDevelopment of lithosphere